Liked

About Me-मेरे बारे में

Arvind Jangid, Sikar, Rajasthan, India
Contact No. (91) 9413159634      Email Address :: arvindjangid@rocketmail.com

               जीवन को बड़े नजदीक से देखा है, हर चेहरे को रंग बदलते देखा है। जो वक्त की आँधियों में भी खड़े रहते हैं ऐसे बहुत कम ही देखे हैं।  जब लोग सिर्फ छोटे छोटे व्यक्तिगत स्वार्थों के लिए किसी को पहचानने से इनकार कर देते हैं, तो सच मानिए बहुत ही दुःख होता है।  बस दिल में कुछ ऐसे ही दर्द हैं। कुछ तो टूट रहा है, बिखर रहा है. सीने में एक अजीब सी घुटन है। जरा सोचिये तो सही हम कहाँ जा रहे हैं ? वर्तमान समय की त्रासदी है की बुरे लोग संगठित हो चुके है, नेक व्यक्तियों की कोई सामुहिक आवाज नहीं है. शायद नेक व्यक्ति किसी परिधि में बंधे हो मगर है बड़ा दुखदायी. समय की नियति है परिवर्तन, शायद ये भी समय का ही परिणाम हो और एक रोज स्वतः ही परिवर्तित हो जाए. मगर परिवर्तन की आस में हाथ पर हाथ धरकर बैठने से भी क्या कोई फायदा है. समाज टूटकर जब बिखरता है तो इसके परिणाम सभी को भोगने पड़ते हैं, चाहे वो इस बिखराव का कारण रहा हो या नहीं. मगर क्या हमें सिर्फ जीना है, स्वंय की आवश्यक्ताओं की पूर्ति मात्र ही करनी है, यदि ऐसा ही है तो फिर जानवर और मानव में अंतर किस बात का रह जायेगा. मेरे हिसाब से हमें मानव जीवन का ऋण तो उतारना ही चाहिए. इतिहास इस बात का गवाह है की जो अहसान को भूल जाते हैं, उनका जीवन धिक्कार का पात्र कहलाया है. ये जीवन एक रोज समाप्त होना है, ये जीवन की नियति है और प्रकृति का नियम भी. पुराना समाप्त हो जायेगा और नए का उदय होगा. इन्हें कौन संचालित कर रहा है. यदि कोई है तो फिर ये अन्धेरा क्यों है. लेकिन अँधेरा भी रौशनी के अभाव का ही परिणाम है. कुछ इसी तरह के सवालों के जवाब तलाशने में वक्त बीत रहा है.

मेरे बारे में एक ही बात कहने को है वो ये की मैं झूठ नहीं बोलूंगा भले ही सब कुछ छूठ जाए. बहुत कुछ गवाया है इसी आदत के कारण, लेकिन मुझे रत्ती भर भी कोई शंका नहीं है की इस जीवन के पार भी एक दुनिया है जहाँ जाकर एक एक गुनाह का हिसाब होगा और जवाब देना होगा. फिर क्यों आत्मा को चुप करवाऊं. उसे तो कहना है और मुझे उसी की सुननी है.

अंतरजाल पर आप मेरे विचारों से यहाँ पर आकर जान सकते हैं. कोई सुनता भी नहीं तो लिखने लग गया, शायद ये मेरी घुटन को कम करने का एक प्रयास मात्र ही है. आपके आगमन हेतु तहेदिल से शुक्रिया. 

आप मुझे यहाँ मिल सकते हैं :-

Comments
0 Comments

FeedBurner Updates

 

Thanks for Your Arrival !

Followers

Your Precious Arrival

© 2011-2013. Mast Blog Tips All Rights Reserved Arvind Jangid, Sikar, Rajasthan. Template by Mast Blog Tips | Back To Top |